HomeShikshaDifference Between Combinational and Sequential Circuit in Hindi

Difference Between Combinational and Sequential Circuit in Hindi

हम जानते हैं की किसी भी elctronic circuit को operate होने के लिए एक voltage की जरूरत होती है. चाहे वह analog circuits हो या Digital Logic Circuits हो. प्रत्येक circuit को operate होने के लिए एक certain voltage level चाहिये होता है. जब यह वोल्टेज एक certain level से कम होती है, तो उसको logic 0 यानी false consider किया जाता है.

लेकिन, जब voltage, एक preset voltage level तक होती है, तब उसको logic 1 यानी true consider करते हैं. उदाहरण के लिए,

मान लीजिये कोई circuit X है, जिसको operate होने के लिए +5V बैटरी की जरूरत पड़ती है. जब उसको +5V की supply मिलती है, तो वह circuit, on होता है, operate करता है और output produce करता है। इसीलिए, Digital logic circuit में इसको logic 1 consider किया जाता है. इसी प्रकार, जब circuit X को +5V की power supply नहीं मिलती है, तब वह circuit on ही नहीं होता है. जब on ही नहीं होगा, तब वह operate कैसे करेगा, फलस्वरूप, आउटपुट भी नहीं मिलेगा और इस condition को logic 0 consider किया जाता है.

Digital Logic Circuits दो प्रकार के होते हैं, १) Combinational Logic Circuit २) Sequential Logic Circuit

Table of Contents

What is Combinational Logic Circuit in Hindi?

यह logic circuit, कई logic gates (AND, OR, NOT, NAND, NOR) को combine करके बनाया जाता है, इसीलिए, इसको combinational logic circuit भी कहते हैं.

Difference Between Combinational and Sequential Circuit in Hindi

Combinational Circuit का output, केवल और केवल इस circuit के present input पर depend करता है. इस circuit के basic component, Input/Output variables और logic gates हैं.

इस circuit में किसी भी प्रकार का feedback नहीं दिया जाता है. Input में किसी भी प्रकार का परिवर्तन, output में भी दिखता है. या यह कहना भी गलत नहीं होगा की combinational logic circuit का output, हमेशा present input पर depend करता है.

Classification of Combinational Logic Circuits

Combinational logic circuit को तीन प्रकार में, उनके operations के आधार पर विभाजित किया गया है,

१) Arithmetic and Logical Operations (Adders, Subtractors, Comparators, PLD)

२) Data Transmission (Multiplexer, Demultiplexer, Decoder, Encoder)

३) Code Converter (Binary, BCD, 7-segment)

Also Read

What is Hexadecimal Number System in Hindi?

What is Octal Number System in Hindi?

What is Binary Number System in Hindi?

What is Decimal Number System in Hindi?

Demorgan’s Theorem in Hindi

What is Sequential Circuit in Hindi?

Combinational logic circuit की तरह, sequential logic circuit भी input पर depend करता है. लेकिन, यह केवल present input पर ही नहीं previous input पर भी depend करता है.

Difference Between Combinational and Sequential Circuit in Hindi

अब क्योंकि, इस circuit का output, previous input पर depend करता है. इसके लिए हमें जरूरत पड़ती है, एक feedback element की यानी memory की.

यह memory element, binary information को store करता है. इस stored information को state of sequential circuit भी कहा जाता है. Memory element से प्राप्त होने वाला output, external output और external input पर depend करता है.

Sequential circuit का output, present और previous, दोनों input पर depend करता है.

Sequential circuit दो प्रकार के होते हैं-

१) What is Asynchronous Sequential Circuit in Hindi?

इस circuit में clock signal का प्रयोग नहीं किया जाता है. यह circuit input pulses के द्वारा ही driven किया जाता है. इसका अर्थ यह है की input के change होने पर, output भी change होता है.

Difference Between Combinational and Sequential Circuit in Hindi

इन sequential circuit का operation, combinational circuits operation के लगभग similar होता है.

Synchronous Sequential Circuit के comparison में, asynchronous circuit ज्यादा fast होते हैं. क्योंकि, इनको operate करने के लिए अगली clock cycle का wait नहीं करना पड़ता है. For example: Latches

इन circuits का सबसे ज्यादा उपयोग communication में किया जाता है.

२) What is Synchronous Sequential Circuit in Hindi?

यह वे circuit हैं,जिनमें input signal के साथ-साथ, clock signal भी apply किया जाता है. Asynchronous sequential circuit के comparison में इनकी speed भी कम होती है, क्योंकि अगला operation perform करने के लिए, इन्हें अगली clock cycle की जरूरत पड़ती है.

Difference Between Combinational and Sequential Circuit in Hindi

Input signal के शुरुआत में ही output level change होता है, यह output तब तक same रहेगा, जब तक अगली clock pulse apply नहीं की जाती है. Like, Flip-flop, synchronous Counter, और इनका उपयोग Moore-mealy state management machines के design में किया जाता है, आदि.

What is the Difference Between Combinational and Sequential Circuit in Hindi?

S.No.Combinational CircuitSequential Circuit
1. इन circuits में output, present input पर depend करता है.इन Circuit में output, present और past, दोनों input पर depend करता है.
2. Combinational circuit की speed fast होती है.जबकि sequential circuit की speed slow होती है.
3.इन सर्किट का design simple होता है.कॉम्बिनेशनल सर्किट के comparison में इन सर्किट का design complicated होता है.
4. यह time पर निर्भर नहीं करता है.यह circuit time dependent हैं.
5.इन circuits का उपयोग different प्रकार के arithmetic और logical operations को perform करने के लिए प्रयोग किया जाता है.जबकि sequential circuit का उपयोग डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है.
6. इस सर्किट में किसी भी प्रकार का मेमोरी element नहीं होता है.इन Circuits में memory element होता है.
7.यह circuit, clock-independent होता है. यह circuit, clock dependent होता है.
8.इन circuits को प्रयोग करना आसान है.Sequential circuits को handle करना और इनका प्रयोग करना आसान नहीं है.
9. For Example, Adder, Subtractors, Multiplexer, Demultiplexer, Encoder, Decoder, code converter आदि.For Example, Latches Flip-Flop, Counter, Shift-register आदि.

उम्मीद है की इस आर्टिकल में आपको अपने सभी प्रश्नों के उत्तर मिल गए होंगे। यदि आपका कोई अन्य प्रश्न हो तो हमें comment box में लिखें और अपने मित्रों के साथ फेसबुक, व्हाट्सप्प और twitter आदि पर भी शेयर करें।

Gauri
Gaurihttps://hindipradesh.com/
हैलो, मेरा नाम ग्लोरी है. मै इंजीनियरिंग में अपनी पढ़ाई पूरी कर चुकी हूँ. मुझे रिसर्च का और लिखने का शौक है. मुझे प्रकर्ति के साथ रहना अच्छा लगता है.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Post